नवीनतम

Post Top Ad

Your Ad Spot

राम कथा सब बिधि सुखदाई लिरिक्स Ram Katha Sab Bidhi Sukhdai Lyrics Bhajan - Anand Marg



राम कथा सब बिधि सुखदाई
राम कथा सब बिधि सुखदाई
राम कथा की निर्मल गंगा
शीतल गंगा उज्जवल गंगा
अविरल बहती आयी
राम कथा सब विधि सुखदाई
है ये कथा सब बिधि सुखदाई

इस गंगा के दोनों तीर
एक सीता दूजे रघुवीर
उच्च हिमालय दसरथ भूप
कौसल्या गंगोत्री रूप
राम लखन अरु भारत शत्रुघन 
चार दिशा में चक्रवर्ती सम
चर्चित चारो भाई
राम कथा सब बिधि सुखदाई

पतित उदहारण परम पवित्र 
दीनबंधु मित्रों के मित्र
रघुबर सर्व गुणों की खान
पुरुषोत्तम सक्षम भगवान्
तीन लोक में  एक न ऐसा
सहज स्वाभी सब में व्यापक
श्रीयुत श्री रघुराई
राम कथा सब बिधि सुखदाई
राम कथा सब बिधि सुखदाई

नारद सारद शेष महेश
कहत थके आवे नहीं शेष
धर्म मूर्ति आदर्श स्वरुप
सीतापति त्रिभुवन के भूप
राम प्रभु की महिमा ऐसी
कही न सके श्री राम स्वयं भी
निज गुण नाम बड़ाई
राम कथा सब बिधि सुखदाई

रामायण के बीज को
कर प्रभु चरित बखान
देवऋषि नारद चतुर
हो गए अंतर्ध्यान

___________________
Source- Ramanand Sagar's Ramayan 
Singer - Ravindra Jain


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Popular Posts

Post Top Ad

पेज